” आज तुमको क्या हुआ है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

दरकते दर्प से रिश्ते ,
हमेशा मुंह चिढ़ाते हैं !
हों डूबे भावना में जब ,
कुछ कह न पाते हैं !
बहके बहके से अधर हैं ,
आज क्यों सिमटी हया है !!

सिसकती सांस है जैसे ,
पैमाना भरा सा है !
नहीं लज़्ज़ा है आँखों में ,
ज़ख्म भी वो हरा सा है !
खोया खोया कहीं है मन ,
आज क्यों बदली हवा है !!

पराजित हो गये जैसे ,
सभी संस्कार अपने हैं !
कहीं तुम टूट कर बिखरे ,
कहीं छूटे वे अपने हैं !
नहीं है ठौर संयम का ,
वक़्त ये करता बयां है !!

Sponsored
Views 391
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 121
Total Views 29.1k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia