आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम

pratik jangid

रचनाकार- pratik jangid

विधा- लेख

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम
ये ख़ामोशी कुछ कहना चाह रही हो, जेसे फिर से गुम होना चाहती हो तुम !
आज ये बदल जो बरसे , फिर से भीग जाना चाहती हो तुम
आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम !
ये आंखे तुम्हे यादो में खोजती रही , शायद फिर से यादे बनना चाहती हो तुम
तुम्हारे जाने पर उलझ गए थे कुछ सवाल , शायद उन्हें सुलझाने आयी हो तुम !
आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम
BY Pratik Jangid

Sponsored
Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
pratik jangid
Posts 18
Total Views 384

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia