आज किस बेटी की बारी है

रामबन्धु वत्स

रचनाकार- रामबन्धु वत्स

विधा- कविता

हर माँ-बाप का मन भारी है,
आज किस बेटी की बारी है I

घर से निकली प्यारी अपने सपनों के साथ,
पता नहीं कब क्या होगा उसके साथ I
कानों में फिर गूंजी चित्कार ,
आँखों में पानी है ।
आज किस बेटी की बारी है I

अपनी बेटी की ,
अपनो ने छिनी आबरू ,
बेबश बेकार लाचार है यह ज़िन्दगी
अरे, यह सड़क का नंगा शव तो
हमारी अपनी दुलारी है ।
अब! किस बेटी की बारी है I

हार गयी ज़िन्दगी ,
जीती दरिंदगी ,
लहुलुहान इज्जत हम सबको धिक्कारती,
खून की हर बुंद को चुपचाप पीती दामिनी है ।
आज किस बेटी की बारी है ।

Views 42
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia