आई है ऋतु प्रेम की.(नव बसंत)

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

सरस्वती से हो गया ,तब से रिश्ता खास !
बुरे वक्त में जब घिरा,लक्ष्मी रही न पास !!
……………………….
जिसको देखो कर रहा, हरियाली काअंत !
आँखें अपनी मूँद कर, रोये आज बसंत !!
……………………..
पुरवाई सँग झूमती,.. शाखें कर शृंगार !
लेती है अँगडाइयाँ ,ज्यों अलबेली नार !!
………………………..
आई है ऋतु प्रेम की,.. आया है ऋतुराज !
बन बैठी है नायिका ,सजधज कुदरत आज !!
……………………….
सर्दी-गर्मी मिल गए , बदल गया परिवेश !
शीतल मंद सुगंध से, महके सभी "रमेश" !!
………………………..
हुआ नहाना ओस में ,…तेरा जब जब रात !
कोहरे में लिपटी मिली,तब तब सर्द प्रभात !!
……………………….
कन्याओं का भ्रूण में,…. कर देते हैं अंत !
उस घर में आता नही, जल्दी कभी बसंत !!
रमेश शर्मा

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 21
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 133
Total Views 1.4k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia