आईना सा हो गया, उनका भी किरदार

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

आईना सा हो गया, उनका भी किरदार !
आया जो भी सामने,हुआ उसी का यार !!

चाहे चौॆथी फेल हो,या हो वो विद्वान !
पाए सबसे मान वो,ऐसी हो पहचान !!

खूबी कोई देखकर, ..जग हित की इंसान !
रख ले पलकों पर जगत, ऐसी हो पहचान !!

खेतों में हल हैं नहीं, ट्रेक्टर करते राज !
बूचड़खाने में सभी, बैल खड़े हैं आज !!
रमेश शर्मा.

Views 7
Sponsored
Author
RAMESH SHARMA
Posts 93
Total Views 818
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia