आईना सा हो गया, उनका भी किरदार

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

आईना सा हो गया, उनका भी किरदार !
आया जो भी सामने,हुआ उसी का यार !!

चाहे चौॆथी फेल हो,या हो वो विद्वान !
पाए सबसे मान वो,ऐसी हो पहचान !!

खूबी कोई देखकर, ..जग हित की इंसान !
रख ले पलकों पर जगत, ऐसी हो पहचान !!

खेतों में हल हैं नहीं, ट्रेक्टर करते राज !
बूचड़खाने में सभी, बैल खड़े हैं आज !!
रमेश शर्मा.

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 9
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 133
Total Views 1.4k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia