आइना जैसा………….. जान दिल |गीत| “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- गीत

आइना जैसा नाजुक है दिल
बड़ा कमजोर मेरा है दिल
टुकड़े टुकड़े हो जायेगा ये
घूरो तोड़ो नही जान दिल

आइना जैसा………….. जान दिल

इसमें जब भी कोई देखता
उसमे तुमको ही ये देखता
पास आकर के धीरे धीरे बोलो
कहीं गुस्से से डर जा ना दिल

आइना जैसा………….. जान दिल

कर लो कर लो ना मेरा यकीं
प्यार सच्चा है झूठा ये नही
दिन का सूनापन दिल को खाये
रात बैरन है नींद नही आये

आइना जैसा………….. जान दिल

प्यास दिल की मिटा दो ना सनम
मुश्किल जीना है तेरे बिन सनम
बड़ा बेचैन रहता है दिल
जबसे दूर गये छोड़ दिल

आइना जैसा………….. जान दिल

“मनोज कुमार”

Sponsored
Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 41
Total Views 886
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia