आंशू

Rishav Tomar (Radhe)

रचनाकार- Rishav Tomar (Radhe)

विधा- हाइकु

नयन नीर
कह रहा है साथी
मन की पीर

दिल का दर्द
झलकता है बन
आँख से नीर

बह जाते है
सपने बनकर
होकर नीर

गिर जाते है
अपने लालच में
खोकर नीर

मन बेचते
है तन की खातिर
सहके पीर

रचनाकार ऋषभ तोमर

इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rishav Tomar (Radhe)
Posts 31
Total Views 373
ऋषभ तोमर पी .जी.कॉलेज अम्बाह मुरैना बी.एससी.चतुर्थ सेमेस्टर(गणित)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia