आँखों में पानी क्यों नहीं

अजय कुमार मिश्र

रचनाकार- अजय कुमार मिश्र

विधा- गज़ल/गीतिका

ढूँढ रहा हूँ मैं तो जवाब इस सवाल का
वतन पर मिटती है अब जवानी क्यों नहीं/

इस धरा पर दूर तक सागर का विस्तार है
पर रही लोगों की आँखों में पानी क्यों नहीं/

अब तो दिखता घर में सब कुछ नया ही सा
रखे अब कोई बुज़ुर्गों की निशानी क्यों नहीं/

धन से धन को जोड़ने में सब तो हैं लगे हुए
अब कोई होता यहाँ कर्ण सा दानी क्यों नहीं/

सब तो हैं बस बाहरी सौंदर्य में ही उलझे हुए
अब तो ये इश्क़ भी होता है रुहानी क्यों नहीं/

फूल को छोड़कर अपने लिए बस काँटे चुने
कोई भी करता अब ऐसी बेईमानी क्यों नहीं/

गर धरा पर उगाएँ सभी प्यार का पौधा अजय
मस्त हो जाएगी सभी की ज़िंदगानी क्यों नहीं/

Views 6
Sponsored
Author
अजय कुमार मिश्र
Posts 30
Total Views 2.3k
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद से परिवर्तित होकर सामाजिक संवाद का रूप धारण कर लिया है। कविता , शेर , ग़ज़ल , कहानियाँ , लेख लिखता रहा हूँ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia