आँखों में आंसू और दिल में वो दर्द न थे

Ankur Thakor

रचनाकार- Ankur Thakor

विधा- गज़ल/गीतिका

आँखों में आंसू और दिल में वो दर्द न थे
टूट गये रिश्ते फिर भी तुम आजिज़ न थे

वक़्त ने कसोटी पे तराशा हे एक सा हमे
पर मेरे इब्तिला से तुम तो 'वाकिफ' न थे

तुम तो बड़ी 'खामोसी' में निकल गये पर
मेरे 'गिरियां' किसी ने देखे और सुने न थे

बड़ी नुमाइस हो रही थी हमारे 'प्यार' की
सब तमाशाई ही खड़े थे गम़गुस्सार न थे

आवाजे गूंजती रही दिवालो के पीछे की
हमतो बे इख्त़ियारी थे शर्मसार तुम न थे
@अंकुर…..

Views 46
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ankur Thakor
Posts 6
Total Views 85
नाम :- अंकुरसिंह पी ठाकोर पता :- गोधरा, गुजरातसे हु लेखन :-कविता गीत ग़ज़ल और मुक्तक शिक्षण :- बी ए विथ इकोनॉमिक्स (अर्थ शास्त्र ) व्यवसाय :- टू व्हीलर्स ऑटो स्पेर्स मोबाइल :- 98795530109 मेल :- apt23372@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia