अश्रुनाद

Dr. umesh chandra srivastava

रचनाकार- Dr. umesh chandra srivastava

विधा- मुक्तक

…मुक्तक …

मधुऋतु मधुरिम लहराये
सरगम नव वाद्य बजाये
फिर सप्त सुरों में कोयल
जीवन संगीत सुनाये

भावानुवाद ( स्वरचित )

Malodic season looking Sweet .
Instruments playing novel beat.
Cookoo sings in seven tunes .
Life is like music of tweet .

Views 3
इस पेज का लिंक-
Author
Dr. umesh chandra srivastava
Posts 39
Total Views 264
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia