अलग पहचान रखते हैं

ashok ashq

रचनाकार- ashok ashq

विधा- गज़ल/गीतिका

दिवाने हैं हथेली पर हमेशा जान रखते हैं
उबलते दर्द सीने में मगर मुस्कान रखते हैं

उजाला बाँटते सबको मोहब्बत ही सिखाते हैं
भले अपना घरौंदा ही सदा सुनसान रखते हैं

मुझे महसूस कर लोगे भले हो भीड़ लाखों की
मिलाते हाथ तो सबसे अलग पहचान रखते हैं

मिले दुश्मन अगर हम से गले से भी लगाते हैं
भरे शोले निग़ाहों में दिल मे तूफान रखते हैं

तुझे पाने की हसरत है मगर तुम से ही डरता हूँ
तेरी मुस्कान की खातिर छुपा अरमान रखते हैं

मुझे लूटा यहाँ जिसने अगर मेरे दर आता है
भुला सारे गिले शिकवे बना मेहमान रखते हैं

सितमगर लाख हो कोई डिगा सकता नही मुझको
जुदा कैसे करोगे जिस्म दो इक जान रखते हैं

– 'अश्क़'

Sponsored
Views 15
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ashok ashq
Posts 24
Total Views 183

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia