” ——————————————–अर्थ समझ गये गहरे ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गज़ल/गीतिका

गहरे जल में बिम्ब उभरते , अनजाने से गहरे !
दर्पण दिखलाता है हमको , काहे अक्स रूपहरे !!

गहराई से डर लगता है , लहरों से हम खेलें !
समय ने बैठाये रखे हैं , जगह जगह पर पहरे !!

घाट घाट का पानी पीकर , हो गए लोग सयाने !
दुनिया को देते रहते हैं , घाव बड़े औ गहरे !!

आस लगाकर दीपक छोड़ा , बाती देख रही हूं !
तूफानी लहरें टकराये , जोत जोश की फहरे !!

तट पर लहराईं खुशबू है , नहीं मोगरा वश में !
अधरों पर मुस्कान सजी है , भूल गये ककहरे !!

बिन काजर अँखियाँ कजरारी , तुमको कैद किया है !
टिकी हुई नज़रें दुनिया की , सपने सभी चितहरे !!

मौन घाट है मौनी लहरें , मौनी बहती धारा !
जहां मौन से नाता जोड़ा , अर्थ समझ गये गहरे !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 125
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia