अभी तो कोई पराया नज़र न आया मुझे

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल
*******
किसी ने ऐसे नज़र से है गिराया मुझे
कि हर घड़ी तो सताता ग़मों का साया मुझे
🌷🌷🌷
वो क़समे-वादे तुम्हारे कहां गये हैं सनम
ख़ता हुई है क्या मुझसे जो यूँ भुलाया मुझे
🌷🌷🌷
भुला दूँ कैसे ऐ माँ तेरी उस मुहब्बत को
जो खुद तो भूखी ही रह कर सदा खिलाया मुझे
🌷🌷🌷
मैं छोड़ कैसे दूँ तन्हा उसे ज़माने में
पकड़ जो उँगली मेरी चलना है सिखाया मुझे
🌷🌷🌷
करूँ मैं किस से अदावत ज़माने में लोगों
अभी तो कोई पराया नज़र न आया मुझे
🌷🌷🌷
किसी आँखों का तारा हूँ ऐ सितमग़र सुन
समझ के खाक़ जमीं का न जो उठाया मुझे
🌷🌷🌷
दिया हमेशा सनम तुमको बाहों का बिस्तर
ये प्यार कैसा कि काँटों पे है सुलाया मुझे
🌷🌷🌷
न जाने कौन सी मुझसे ख़ता हुई "प्रीतम"
किया था वादा हँसाने का पर रुलाया मुझे
🌷🌷🌷
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
13/09/2017
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
1212 1122 1212 22
🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 168
Total Views 1.7k
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia