अभिव्यक्ति

Neelam Naveen

रचनाकार- Neelam Naveen "Neel"

विधा- कविता

कुछ मौन होती अभिव्यक्ति जो
आज स्मरण हो आयी मानस में
ताजी बर्फ में चीनी घोल खाना
हथेली में बर्फ देर तक रखने में
रिकार्ड तोड़ने की अजब शान
कहां हो तुम मेरे बचपन अज्ञान ।।।

चुपके से किसी की पीठ में बर्फ दे
भाग जाना और काका का बर्फ में
फिसल झटके से उठने का गुमान
हमारी हंसी को रोकने की कोशिश
दनादन फिसलते बने फिर अनजान
कहां हो तुम मेरे बचपन अज्ञान ।।।।

बर्फीले गोलों की मार से बचते हुऐ
भीगे भीगे डरे से घर को लौटते हुऐ
प्रेम की नर्म झिडकीयों में गर्म होते
चावल भात में सिकती ठंडी उंगलियां
वो रूई की रजाईयां व बोर्ड के इम्तहान
कहां हो तुम मेरे बचपन अज्ञान ।।।

कभी सगड़ के कोयलों में ईजा सरसों
के गर्म तेल में मोम के घोल से तर करती
हमारे फटे लाल गाल, वो तपिश भरे
अहसास जिंदा हैं अभिव्यक्ति को
कहां हो तुम मेरे बचपन अज्ञान ।।।।

डायरी का पन्ना
नीलम नवीन "नील"
देहरादून 7/1/17

Views 18
Sponsored
Author
Neelam Naveen
Posts 12
Total Views 568
From Ranikhet Dist. Almora
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia