अब भी है।

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- गज़ल/गीतिका

रदीफ- अब भी है।

कलम मेरी,उनके अशआर अब भी हैं।
दूर हैं, मगर सरोकार अब भी हैं।

उनकी चाहत का खुमार अब भी है।
वो मेरी ग़ज़लों में शुमार अब भी हैं।

चलती चाहत की बयार,अब भी हैं।
उनसे जीवन में बहार,अब भी हैं।

उनके हमारे बीच दूरी,अब भी हैं।
कुछ रिश्ते निभाने ज़रूरी,अब भी हैं।

उनकी पलकें झुकीं सी,अब भी हैं।
हमसे कुछ बेरुखी सी,अब भी हैं।

दिल का उनसे ही करार,अब भी है।
उनका हमपे इख्तियार,अब भी हैं।

उनकी फितरत में सब्र-ओ-करार,अब भी हैं।
जितने पहले थे,उतने हम बेकरार,अब भी हैं।

नीलम शर्मा

Sponsored
Views 26
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 237
Total Views 2.6k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia