अब तो आजा ………………….|गीत| “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- गीत

अब तो आजा आजा आजा अब तो आजा
आजा जानेजा जानेजा आजा आजा……….२
तेरी सूरत बिन देखे अरसा हो गया आजा
आजा जानेजा जानेजा आजा आजा……….२

अब तो आजा आजा………………………………..

कर दिया पागल तूने तेरी मुस्कान ने
बरसों से खड़ा हूँ रानी तेरे इंतजार में
ऐसे ना जा छोड़ दिल दिल ना दुखाना
गमों का पहाड़ टूटा ऐसे ना रुलाना
हो गये बदनाम सजनी अब तो तू आजा
आजा जानेजा जानेजा आजा आजा

अब तो आजा आजा………………………………..

हर घड़ी शामों शहर राह निहारूँ
आजा कहीं से देजा दीद पुकारूँ
मुश्किल भरा दौर है संग देने रानी आजा
हमको सिखाने प्यार बनके परी आजा
फिर से हुस्न के तू जलवे दिखाजा
आजा जानेजा जानेजा आजा आजा

अब तो आजा आजा………………………………..

जिन्दगी भी बेरंग हो गयी जबसे तू चली गयी
घुटने लगा दम मेरा थी ऑक्सीजन चली गयी
आ भी जाओ साजन तुम बिन मन नही लगता
रातें हैं ये सूनी तुम बिन दिन भी सूना लगता
जख्मी हुआ ये दिल आजा दिल है दीवाना
आजा जानेजा जानेजा आजा आजा

“मनोज कुमार”

Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 40
Total Views 640
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia