अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई

Shoaib Ashq

रचनाकार- Shoaib Ashq

विधा- कव्वाली

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई
 आका  हैं   जैसे आज भी वैसा   नही   कोई

मिसले नबी तो दुनिया में  कोई न है न होगा
यह शाने  लताफत  है  के  साया  नही कोई

ईमान मेरा   है  यही मेरा अकीदा है
सरकार के जलवों सा जलवा नही कोई

यारब कभी हो मुझको ज़ियारत मदिनें की
शहरे मदीना जैसा है वैसा नही कोई

ऐ  शाहे  दो जहाँ मुझे   चौखट पे बुलालो
तेरे सिवा "शोएब" का अपना  नही  कोई

Views 6
Sponsored
Author
Shoaib Ashq
Posts 1
Total Views 6
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia