अब चलूंगी मैं..

मोनिका भाम्भू कलाना

रचनाकार- मोनिका भाम्भू कलाना

विधा- कविता

तुम मिलों न मिलों
अब चलूंगी मैं…
तुम हो न हो
अब जियुंगी मैं
तुम मेरे रहो न रहो
अब न रुकूँगी मैं…|
अब मुझे चलना ही होगा
अब मुझे बढ़ना ही होगा
कदम थके ही सही,
रास्ता कोई नया चुनना ही होगा |
तुम मिल भी गए अगर
तो मिलना न रहा
काबू रख जज्बातों को
अपने अरमानों को कुचलना ही होगा |
तुम थे तो एक सहारा था
दूर ही सही कोई किनारा था
अब जब ज़िन्दगी दामन छोड़कर
निकल ही गई है
हर पल मौत से गुजरना होगा l
जिसके लिए मर गई हूँ
उसी के लिए मुझे जीना होगा
अब मुझे चलना ही होगा..|

Views 298
Sponsored
Author
मोनिका भाम्भू कलाना
Posts 5
Total Views 527
कभी फुरसत मिले तो पढ़ लेना मुझे, भारी अन्तर्विरोधों के साथ दृढ़ मानसिकता की पहचान हूँ मैं..॥
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia