अपने वजूद की पहचान कर चला है

NIRA Rani

रचनाकार- NIRA Rani

विधा- कविता

आज दिल फिर से मुकम्मल हो चला है
तेरे यादो की गली से मुह मोड़ के चला है

उधार की खुशिया ..जो तुझसे होकर गुजरी
किसी जमाने मे जो थी सिर्फ तुझमे सिमटी

उल्फत के वो फसाने ..जिन्हे गुजरे हुए जमाने
नमी जिनको याद कर हो ..मुह मोड़ के चला है

दामन तेरी उल्फत का बस छोड़ कर चला है
बस !खुद के वजूद की पहचान कर चला है

Sponsored
Views 63
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
NIRA Rani
Posts 63
Total Views 2.8k
साधारण सी ग्रहणी हूं ..इलाहाबाद युनिवर्सिटी से अंग्रेजी मे स्नातक हूं .बस भावनाओ मे भीगे लभ्जो को अल्फाज देने की कोशिश करती हूं ...साहित्यिक परिचय बस इतना की हिन्दी पसंद है..हिन्दी कविता एवं लेख लिखने का प्रयास करती हूं..

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia