अनकही बातें

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

कहने को यूँ दिल में थीं
होंठों पर ठहरी हुईं
कुछ अनकही बातें

लफ़्ज़ों में पिरोई हुई
कागज़ पर उतरी नहीं
हुईं दफ़न सीने में कही
कुछ अनकही बातें

ख्वाबों के सहारे चलते रहे
हम उनसे मिलते बिछड़ते रहे
कई बार कहने को हुईं
पर भीड़ में कहीं दब सी गयीं
कुछ अनकही बातें

सोचता हूँ स्याही का रंग देकर
कागज़ पर उकेरता रहूँ
कि उन तक पहुंचे खतों में कभी
मेरी अनकही बातें

–प्रतीक

Views 37
Sponsored
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 27
Total Views 592
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment