अधूरे ख्वाब

संजय गुप्ता

रचनाकार- संजय गुप्ता

विधा- कविता

अपनी मायूसी छिपाने के लिये,
हंसी चेहरे पर दिखाता रहा ।
दिल पर चोटें लगी बहुत,
मगर जख्मों को छिपाता रहा ।।

रोशनी से डर जाता हूं मैं अक्सर,
इसलिये अंधेरों में रहा करता हूं ।
तन्हाई में जीता रहा हूं अब तक,
इसलिये महफिल में जाने से डरता हूं ।।

बादलों का गर्जना ही काफी नहीं होता,
उनका बरसना भी लाज़मी है ।
ख्वाब मुकम्मल नहीं होते कभी,
उसके लिये तरसना ही पड़ता है ।।

ख्वाबों को पूरा होते हुये,
सिर्फ किताबों में ही देखा है ।
हकीकत मे तो ख्वाबों को बस,
सिर्फ उधड़ते ही देखा है ।।

कवि संजय गुप्ता (सिंगला)
मोगीनन्द,नाहन ।
जिला सिरमौर,(हि०प्र०)
मोबाइल 9882521555

Sponsored
Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
संजय गुप्ता
Posts 9
Total Views 277

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia