अजन्मी की व्यथा

डॉ०प्रदीप कुमार

रचनाकार- डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

विधा- कविता

अजन्मी की व्यथा
———————–
माँ !!
सुना है !
डॉक्टर भगवान है !
जिन्दगी बचाकर
जिन्दगी देता है |
हाँ !!
सही भी है !
तभी तो……..
मौत के मुँह से
खींच लाता है
इंसान को ||
लेकिन अपवाद
हर क्षेत्र में मौजूद हैं !
यहाँ भी हैं………..
चंद पैसों की खातिर
बिक जाता है !
ये धरती का भगवान
और बन जाता है
लालची हैवान ||
तभी तो……….
मुझ अजन्मी को
कोख में ही पहचानकर
कोख से निकाल फेंकता है
और कर देता है
मेरी हत्या !!
मेरे जन्म लेने से पूर्व ||
यही नहीं……………
सौदागर भी हैं
चंद डॉक्टर !
जो करते हैं सौदा
मानवीय अंगों का….
कभी दिल का
तो कभी गुर्दे का !
कभी खून का
तो कभी आँखों का !!
क्या कहूँ ?
मैं तो चली जाऊँगी
अजन्मी ही !!!
लेकिन…….
मैं पूछती हूँ !
उन डॉक्टरों से
जो खो चुके हैं !
संस्कार !
नैतिकता !
मानवता !
और स्वधर्म !!
कि आखिर क्यों ?
खुद के भगवान का ओहदा
उसने पैसे को दे दिया ?
आखिर क्यों ??
———————————
— डॉ० प्रदीप कुमार "दीप"

Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
Posts 81
Total Views 2.7k
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत) सम्पर्क सूत्र : 09461535077 E.mail : drojaswadeep@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia