अजनबी

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

गुजरते हुए पल
बोझिल से लग रहे हैं
आशाओं के दीपक
बुझते से लग रहे हैं ।

बदली हुई डगर मे
अपने पराये लग रहे हैं
नज़रो से दिखते रस्ते
धुंधले से लग रहे हैं ।

आसमान मे बादल
तन्हा से लग रहे हैं
उड़ते हुए परिन्दे
खामोश लग रहे हैं ।

उठती नजरों के तीर
सीने मे लग रहे हैं
हम आपको आप हमको
अजनबी से लग रहे हैं ।।

राज विग

Views 53
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Raj Vig
Posts 41
Total Views 2.1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia