अजनबी

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

गुजरते हुए पल
बोझिल से लग रहे हैं
आशाओं के दीपक
बुझते से लग रहे हैं ।

बदली हुई डगर मे
अपने पराये लग रहे हैं
नज़रो से दिखते रस्ते
धुंधले से लग रहे हैं ।

आसमान मे बादल
तन्हा से लग रहे हैं
उड़ते हुए परिन्दे
खामोश लग रहे हैं ।

उठती नजरों के तीर
सीने मे लग रहे हैं
हम आपको आप हमको
अजनबी से लग रहे हैं ।।

राज विग

Views 38
Sponsored
Author
Raj Vig
Posts 21
Total Views 1k
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia