अजनबी

Mahesh Tiwari

रचनाकार- Mahesh Tiwari

विधा- गज़ल/गीतिका

हम अजनबी थे शहर अजनबी था
किसे अपना कहते कोई नहीं था
पता पूँछते हम किससे रह गुजर का
किसको थी फुरसत कौन इतने करीब था
महज देखने को थे दिलकश नजारें
कोई लालारुख था कोई महजबीं था
लौट आये 'अएन' फिर अपने शहर को
बहुत साल पहले जहाँ घर कभी था

Sponsored
Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mahesh Tiwari
Posts 8
Total Views 246

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia