अच्छी करनी

पं.संजीव शुक्ल

रचनाकार- पं.संजीव शुक्ल "सचिन"

विधा- कुण्डलिया

करनी अच्छी कीजिये राखिये सबका मान,
अपने तो अपने रहे दूजा दे सम्मान,
दूजा दे सम्मान स्वर्ग में लगेगी सीढी
अपने इन करमन से तरेगी कईएक पीढी।
कहे "सचिन" कविराय सभीको वहीं है भरनी
जिसकी जैसे होगी इस जगत में करनी।।
©®पं.संजीव शुक्ल "सचिन"
9560335952
7/8/2017

Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
पं.संजीव शुक्ल
Posts 72
Total Views 538
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia