अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,

kapil Jain

रचनाकार- kapil Jain

विधा- गज़ल/गीतिका

अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।
अनसुने हो गए जब दिल-ए-अरमान सभी,
खामोशियाँ उतार देते हैं कागजो पर,
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।

जागती आँखों से जिन्हें देखने की भूल की,
अधूरे वो ख्वाब,उतार देते हैं कागजों पर।
सोचा था की,मिलेंगे तब केह देंगे,
वो हर बात,उतार देते हैं कागजों पर।
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।

धुँधली हो गई मगर है जिन्दा ज़ेहन में ,
वो तेरी यादें,उतार देते हैं कागजो पर।
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।
कुछ नज़्मे उतार देते हैं कागजों पर।

कपिल जैन

Views 190
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
kapil Jain
Posts 14
Total Views 1k
नाम:कपिल जैन -भोपाल मध्य प्रदेश जन्म : 2 मई 1989 शिक्षा: B.B.A E-mail:-kapil46220@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments